क्या एक पीछे खिसकने वाला ईसाई अभी भी बचा हुआ है?

उत्तर



यह एक ऐसा प्रश्न है जिस पर वर्षों से अंतहीन बहस चल रही है। बैकस्लाइडर या बैकस्लाइडिंग शब्द नए नियम में प्रकट नहीं होता है और इसका उपयोग मुख्य रूप से इज़राइल के पुराने नियम में किया जाता है। यहूदी, यद्यपि वे परमेश्वर के चुने हुए लोग थे, उन्होंने लगातार उससे मुँह फेर लिया और उसके वचन के विरुद्ध विद्रोह किया (यिर्मयाह 8:9)। यही कारण है कि उन्हें पाप के लिए बार-बार बलिदान करने के लिए मजबूर किया गया ताकि वे उस परमेश्वर के साथ अपने रिश्ते को बहाल कर सकें जिससे उन्होंने नाराज़ किया था। हालाँकि, ईसाई ने स्वयं को मसीह के पूर्ण, एक बार और हमेशा के लिए बलिदान का लाभ उठाया है और अपने पाप के लिए और किसी बलिदान की आवश्यकता नहीं है। परमेश्वर ने स्वयं हमारे लिए उद्धार प्राप्त किया है (2 कुरिन्थियों 5:21) और क्योंकि हम उसके द्वारा बचाए गए हैं, एक सच्चा मसीही विश्‍वासी गिर नहीं सकता ताकि वापस न आए।

ईसाई पाप करते हैं (1 यूहन्ना 1:8), परन्तु मसीही जीवन को पाप के जीवन से पहचाना नहीं जाना चाहिए। विश्वासी एक नई सृष्टि हैं (2 कुरिन्थियों 5:17)। हम में पवित्र आत्मा है जो अच्छे फल उत्पन्न करता है (गलातियों 5:22-23)। एक ईसाई जीवन एक परिवर्तित जीवन होना चाहिए। ईसाइयों को क्षमा किया जाता है चाहे वे कितनी भी बार पाप करें, लेकिन साथ ही ईसाइयों को उत्तरोत्तर अधिक पवित्र जीवन जीना चाहिए क्योंकि वे मसीह के करीब बढ़ते हैं। हमें एक ऐसे व्यक्ति के बारे में गंभीर संदेह होना चाहिए जो आस्तिक होने का दावा करता है फिर भी ऐसा जीवन जीता है जो कुछ और ही कहता है। हाँ, एक सच्चा मसीही जो पाप में वापस गिर जाता है वह अभी भी बचा हुआ है, लेकिन साथ ही एक व्यक्ति जो पाप के द्वारा नियंत्रित जीवन जीता है वह वास्तव में एक ईसाई नहीं है।



उस व्यक्ति के बारे में क्या जो मसीह का इन्कार करता है? बाइबल हमें बताती है कि यदि कोई व्यक्ति मसीह का इन्कार करता है, तो वह वास्तव में कभी भी मसीह को आरम्भ करने के बारे में नहीं जानता था। 1 यूहन्ना 2:19 यह घोषणा करता है, कि वे तो हम में से निकल गए, परन्तु हम में से न थे। क्‍योंकि यदि वे हमारे होते, तो हमारे साथ ही रहते; लेकिन उनके जाने से पता चला कि उनमें से कोई भी हमारा नहीं था। एक व्यक्ति जो मसीह को अस्वीकार करता है और विश्वास से मुंह मोड़ लेता है, यह प्रदर्शित कर रहा है कि वह कभी भी मसीह का नहीं था। जो मसीह के हैं वे मसीह के साथ रहते हैं। जो लोग अपने विश्वास को त्याग देते हैं, उनके पास इसकी शुरुआत कभी नहीं हुई। 2 तीमुथियुस 2:11-13, यह बात विश्वास के योग्य है: यदि हम उसके साथ मर गए, तो उसके साथ जीवित भी रहेंगे; यदि हम धीरज धरें, तो उसके साथ राज्य भी करेंगे। यदि हम उसका इन्कार करेंगे, तो वह भी हमारा इन्कार करेगा; यदि हम अविश्‍वासी हैं, तो वह विश्‍वासयोग्य बना रहेगा, क्योंकि वह अपने आप से इन्कार नहीं कर सकता।



Top